Friday, 20 March 2015

मुक्तक 1

मोहब्बत के सवालों से मैं अक्सर अब मुकर जाता ,
कहीं बातो ही बातों में मैं कुछ कहकर ठहर जाता..
कि तेरा नाम भूले से जबां तक आ गया ग़र तो,
तू बदनाम हो जाये न इससे मैं सिहर जाता ...
    ...atr

No comments:

Post a Comment