Why intolerance in country

Comments

Popular posts from this blog

तुम्हारे हिज़्र में

मुक्तक

कभी जब शाम हो जाये , सुबह के गीत गया कर.