मुक्तक

सफेदी ओढ़ कर यूँ चाँद तंग मुझको न कर तू ,
कफ़न जिस दिन भी ओढूंगा , ज़माना सारा रोयेगा.
...atr

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

तुम्हारे हिज़्र में

वासंती हवा